Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe
Hindi Khabrein

UP में संचालित होंगे आधी क्षमता के साथ निजी सवारी वाहन, CM YOGI ने दिए निर्देश

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कोविड-19 प्रबंधन हेतु गठित टीम-09 के साथ हुई बैठक के दौरान कई महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए आला अफसरों को दिशानिर्देश जारी किए। मुख्यमंत्री ने निजी सवारी वाहनों को आधी क्षमता के साथ संचालित करने का निर्देश देने के साथ निजी व सरकारी कार्यालयों में काम कर रहे दिव्यांग कर्मचारी और गर्भवती महिला कर्मचारियों के कार्यालय आने की अनिवार्यता को खत्म करते हुए वर्क फ्रॉम होम की सुविधा देने का निर्देश दिया।

 टीम-9 के साथ बैठक करते हुए सूबे के मुख्यमंत्री ने कोरोना काल के बीच प्रदेश के सभी निजी व सरकारी कार्यालयों में काम करने वाले बीमार, दिव्यांग कर्मचारी और गर्भवती महिला कर्मचारियों को  वर्क फ्रॉम होम  की सुविधा देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इन्हें कार्यालय में बुलाने की अनिवार्यता नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने सभी सरकारी कार्यालयों के लिए आदेश जारी करते हुए कहा कि सरकारी कार्यालय में 50ः कार्मिक क्षमता से ही कार्य लिया जाए, कार्यालय में एक समय मे एक तिहाई से अधिक कर्मचारी कतई उपस्थित न रहें।

 कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण के बीच प्रदेश में अंतरराज्यीय बस परिवहन को स्थगित किया गया है। लेकिन मरीजों और अन्य आवश्यक सेवाओं के लिए आवागमन करने वाले लोगों को हो रही दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए निजी सवारी वाहनों को आधी क्षमता के साथ संचालित करने का निर्णय लिया गया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने परिवहन विभाग से इस व्यवस्था को सख्ती से लागू कराने के साथ कोविड प्रोटोकॉल का पालन कराते हुए संचालित कराने का निर्देश दिया है।

बीते 1 मई से 18 से 44 वर्ष वाले लोगों के लिए शुरू हुए वैक्सीनेशन अभियान का विस्तार करने के साथ उसमें तेजी लाने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आगामी 10 मई यानि सोमवार से प्रदेश के 11 जिलों में वैक्सीनेशन अभियान शुरू करने के निर्देश दिए। अभी तक 7 महानगरों में यह टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा था। उन्होंने वैक्सीनेशन को लेकर लोगों में उत्साहवर्धन के लिए जनप्रतिनिधियों को निर्देश देते हुए कहा कि सम्बंधित प्रभारी मंत्रीध्स्थानीय जनप्रतिनिधि किसी न किसी टीकाकरण केंद्र पर उपस्थित रहें। इसके साथ ही चिकित्सा शिक्षा मंत्री अपने स्तर से वैक्सीन निर्माता कंपनियों से लगातार संपर्क बनाये रखा जाए।

Back to top button