Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe
Hindi Khabrein

UP पंचायत चुनाव में पति-पत्नी आए आमने-सामने, मतदाता दूविधा में, आखिर वोट किसे दें !

गोरखपुर। यूपी के गोरखपुर की एक ग्राम पंचायत में मुकाबला रोचक हो गया है। परफार्मेंस ग्रांट के लिए चयनित विकास खंड भटहट की ग्राम पंचायत औरंगाबाद में प्रधान पद के लिए रोचक मुकाबला होने जा रहा है। निवर्तमान प्रधान मांडवी देवी व उनके पति आमने-सामने हो गए हैं। पति-पत्नी के आमने-सामने आ जाने से लोग काफी अचंभित हैं। औरंगाबाद गांव के लिए परफार्मेंस ग्रांट के तहत तीन करोड़ 48 लाख रुपए स्वीकृत किए गए हैं । पहले आरक्षण सूची में इस गांव का चयन अनुसूचित जाति के लिए हो जाने से निवर्तमान प्रधान चुनावी मुकाबले से बाहर हो गई थीं।

पर, दोबारा आरक्षण सूची जारी होने पर गांव पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हो गया। मनचाहा चुनाव चिन्ह पाने के लिए कई दावेदारों ने एक ही पद के लिए अपने ही परिवार के एक से अधिक सदस्यों का पर्चा भरा था। औरंगाबाद में भी निवर्तमान प्रधान मांडवी देवी व उनके पति राकेश प्रजापति ने प्रधान पद के लिए पर्चा भरा था।

अंतिम समय में चुनाव चिन्ह बदल न जाए इस चक्कर में एक पर्चा उठाया नहीं जा सका। जिससे पति-पत्नी आमने सामने हो गये हैं।नाम वापसी एवं प्रतीक चिन्ह आवंटन के दिन चरगांवा ब्लाक में एक रोचक मामला सामने आया। ब्लाक के एक गांव से प्रधान पद के लिए पर्चा दाखिल करने वाली प्रत्याशी अतिआत्मविश्वास में मैदान से ही बाहर हो गईं।

इस प्रत्याशी ने दो सेट में पर्चा खरीदा था लेकिन दाखिल एक ही पर्चा किया। बुधवार की सुबह जाकर पर्चा वापस भी ले लिया। वह यह बात मानकर चल रही थीं कि उनकी ओर से दोनों सेट पर्चा दाखिल किया गया है। प्रतीक चिन्ह लेने जब वह ब्लाक पहुंचीं तो गलती का एहसास हुआ। काफी देर तक वह रिटर्निंग आफिसर (आरओ) के सामने मिन्नतें करती रहीं लेकिन आरओ ने कुछ मदद कर पाने में असमर्थता जतायी।

 

Back to top button